Author Archives: Praatibh Mishra

केस ऑफ़ मिस्सिंग लोकल कमिटी – स्थानीय समिति को खोजने का हमारा अनुभव

LC, local committee, स्थानीय समिति ! भारत के हर जिले में स्थानीय समिति का होना ज़रूरी है, ऐसा हमारे देश में बने एक कानून और उसको बनाने वाले लोगो का विचार था | साल 2013 में  राजनीतिक दबाव के चलते, … Continue reading

Category: Making Workplaces Safe | Comments Off on केस ऑफ़ मिस्सिंग लोकल कमिटी – स्थानीय समिति को खोजने का हमारा अनुभव

Antar-Goonj (The Inner Echo)

(Praatibh Mishra from our team expresses through a poem, the everyday struggle of a domestic worker in a metropolitan city. In times of rapid urbanization and stark class divides, domestic workers are often subjected to abuse, insults and surveillance. This … Continue reading

Category: Making Workplaces Safe | 2 Comments

उम्मीदों की ओर बढ़ते कदम

ये कहानी गुडगाँव की लम्बी लम्बी इमारतों के बीच बसी एक बस्ती से है | मार्च महीने की सात तारीख को सरिता के घर में बड़ी हलचल थीए सब लोग ऊपर से लेकर नीचे तक भागादौड़ी में लगे थे| नीचे … Continue reading

Category: Making Workplaces Safe | Comments Off on उम्मीदों की ओर बढ़ते कदम