Monthly Archives: February 2021

अपने ही समुदाय में बेधड़क घूमने से असुरक्षित महसूस करती हैं लड़कियां

“काश सुरक्षा भी किसी दुकान पे मिलती, उसको ख़रीद के रख लेती, ताकि सपनों को पूरा कर सकूँ” ये बात 14 वर्षीय नेहा ने कही है। आखिरी बार जब मैं नेहा से मिली थी तो उसने अपने ही घर के … Continue reading

Category: #FeminismInEverydayLife | Comments Off on अपने ही समुदाय में बेधड़क घूमने से असुरक्षित महसूस करती हैं लड़कियां

लॉकडाउन से जुड़े किशोर/किशोरियों के अनुभव

“रात हो गई है, और आकाश में तारे जगमगा रहे है, मोहल्ले में सब कोरोना की चर्चा कर रहे, शोर है, हल्ला है, शांति नहीं है, न घर के बाहर, न घर के भीतर” – आरती, 12 वर्ष लॉकडाउन महज … Continue reading

Category: #FeminismInEverydayLife | Comments Off on लॉकडाउन से जुड़े किशोर/किशोरियों के अनुभव

“कदम बढ़ाते चलो”: कैसे 7 साल पहले डा. मार्था फैरेल के नेतृत्व में इसकी शुरुआत हुईं?

मार्था फैरेल फाउंडेशन के 5 साल पूरे होने के साथ साथ, मार्था द्वारा लैंगिक समानता के लिए देखे गए सपने ने थोड़ी और उड़ान भरी । हम जब भी मार्था को याद करते है तो उनकी लैंगिक समानता और हिंसा … Continue reading

Category: Kadam Badhate Chalo | Comments Off on “कदम बढ़ाते चलो”: कैसे 7 साल पहले डा. मार्था फैरेल के नेतृत्व में इसकी शुरुआत हुईं?

Martha Farrell Foundation Turns 5! Here’s Looking Back At All Our Gender Champions

This is Chhutni Devi. 63 years old. A social worker from Birbans, a hamlet in a village named Gamharia. She fights everyday against the social evil of witch-hunting in Rural Bihar. Her journey began in 1991, when her own society … Continue reading

Category: Martha Farrell Awards | Comments Off on Martha Farrell Foundation Turns 5! Here’s Looking Back At All Our Gender Champions